Tuesday, November 8, 2011

डायरी के पन्ने

कल अचानक याद आई

वो डायरी

जो रखी थी

मेज की दराज में

आज भी संजोयी रखी थी

उसमें

तुम्हारी जेठ में कुम्भ्लाई काया!

आज भी महकता है

आसाढ़ का वो चमकता दिन

हमारी पहली मुलाकात का

तुम्हारी चटकती मुस्कान का !

सहेजे रखे है,

बरसात के भींगे दिन

लिपटी पड़ी है

भादो की गरजती रातें !

रखे है अनमोल पल

जो कातिकी के मेले में

तुम्हारे साथ बिताये !

और

रखी है पूस की

ठिठुरती काली रात

बंद कमरे का वो

एकांकीपन

डायरी के कुछ पन्ने

फटे पड़े है

रखे है उसमें

पतझर के वो झरते सपने !

कुछ पन्ने अब भी अधूरे है

उन्हें इन्तजार है,

फागुन में

तुम्हारे स्पर्श के

हरे भरे एहसास का !!!!

26 comments:

  1. dairy ke paano se lajwaab rachna nikli hai
    ..............behreen prastuti siddharth ji

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत एहसास से लबरेज रचना...मुझे बहुत पसंद आई.

    ReplyDelete
  3. सारे मौसमों का सार संरक्षित है इसमें।

    ReplyDelete
  4. Thanks Vidhya ji and Praveen Bhai........

    ReplyDelete
  5. बहुत खूबसूरत एहसास हैं

    ReplyDelete
  6. जीवन के हर मौसम का रंग लिए पन्ने ..... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  7. बेहद सुन्दर प्रकृति के माध्यम से यादों के भावपूर्ण संसार में डूबता उतरता मन....शुभ कामनायें !!!

    ReplyDelete
  8. खुबसूरत एहसास बेहतरीन प्रस्तुती....

    ReplyDelete
  9. सुन्दर एहसास भावपूर्ण प्रस्तुती....
    सादर बधाई....

    ReplyDelete
  10. आज 10 - 11 - 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    ____________________________________

    ReplyDelete
  11. बहुत ही अच्छा लिखा है सर!

    सादर

    ReplyDelete
  12. वाह अहसासो को बहुत खूब संजोया है।

    ReplyDelete
  13. सुंदर कोमल एहसासों से भरे डायरी के पन्ने ...

    ReplyDelete
  14. सुन्दर एहसास संरक्षित रहें सदा!
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  15. बहुत ही भावपूर्ण कविता

    ReplyDelete
  16. बहुत ही भावपूर्ण कविता

    ReplyDelete
  17. बहुत ही भावपूर्ण कविता

    ReplyDelete
  18. बहुत ही भावपूर्ण कविता

    ReplyDelete
  19. बहुत कुछ समेटा है डायरी में ...

    ReplyDelete
  20. ख़ूबसूरत अहसासों की सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति.

    बधाई.

    ReplyDelete
  22. Sangeeta ji,Dr.Sahiba,Sriprakash ji,Sushma ji,habib ji,Yashwant Ji,Vandana ji,Girija ji,Reena ji,Kailash ji,Rachna ji,aap sabhi ka dhanyawaad..........aapne pasand kiya.........

    ReplyDelete