Saturday, November 12, 2011

सफ़र

क्या बताऊँ कैसे खुद को दर बदर मैंने किया
उम्र भर किस किस के हिस्से का सफ़र मैंने किया !

तू तो नफरत भी ना कर पायेगा इतनी शिद्दत के साथ
जिस बला का प्यार तुझसे बे-खबर मैंने किया!

कैसे बच्चो को बताऊँ रास्तो के पेचो-ख़म(घुमाव-फिराव),
जिन्दगी भर तो किताबो का सफ़र मैंने किया !

शोहरत की नजर कर दी शेर की मासूमियत
इस दिये की रौशनी को दर-ब-दर मैंने किया !

चंद -जस्बातो से रिश्तों के बचाने को"सिद्धार्थ"
कैसा कैसा जब्र (जोर,जबरदस्ती) अपने आप पर मैंने किया !!!

7 comments:

  1. जब जीवन की घड़ियाँ यूँ ही बीत जायेंगी,
    हमें अपनी ही, बहुत याद आयेगी।

    ReplyDelete
  2. कैसे बच्चों को बताऊँ जिंदगी के पेचो ख़म ...
    क्या बात है ... बहुत ही कमाल का शेर है जनाब ... सुभान अल्ला ...

    ReplyDelete
  3. वाह ...बहुत खूब

    ReplyDelete