Tuesday, July 27, 2010

ये दुनिया खूबसूरत है

ख़ानदानी रिश्तों में अक़्सर रक़ाबत है बहुत
घर से निकलो तो ये दुनिया खूबसूरत है बहुत

अपने कालेज में बहुत मग़रूर जो मशहूर है
दिल मिरा कहता है उस लड़की में चाहता है बहुत

उनके चेहरे चाँद-तारों की तरह रोशन हुए
जिन ग़रीबों के यहाँ हुस्न-ए-क़िफ़ायत1 है बहुत

हमसे हो नहीं सकती दुनिया की दुनियादारियाँ
इश्क़ की दीवार के साये में राहत है बहुत

धूप की चादर मिरे सूरज से कहना भेज दे
गुर्वतों का दौर है जाड़ों की शिद्दत2 है बहुत

उन अँधेरों में जहाँ सहमी हुई थी ये ज़मी
रात से तनहा लड़ा, जुगनू में हिम्मत है बहुत

4 comments:

  1. प्रशंसनीय रचना - बधाई

    ReplyDelete
  2. bahut sundar vichaaron kee abhivyakti

    बहुत दिनों बाद आपके ब्लॉग पार आना हुआ

    ReplyDelete
  3. Dhanyawaad sanjay bhai aur vivek bhai jo aapne apna kimti waqt nikala .......

    ReplyDelete